Drinks for Fatty Liver - फैटी लिवर के मरीजों मसालों से हो सकता है फायदा, जानिए इस्तेमाल का तरीका

Drinks for Fatty Liver: भारतीय मसालों में औषधीय गुण होते हैं जिनकी मदद से लिवर को आराम मिल सकता है। बताया जाता है कि इनका नियमित सेवन करने से फैटी लिवर कंट्रोल किया जा सकता है।

 फैटी लिवर के मरीजों मसालों से हो सकता है फायदा, जानिए इस्तेमाल का तरीका

Drinks for Fatty Liver: फैटी लिवर की बीमारी में मरीज के लिवर में सूजन और दर्द जैसी परेशानियां होती हैं। लिवर मानव शरीर में सबसे बड़ी ग्रंथि होती है, इसकी मदद से ना सिर्फ ब्‍लड को फिल्टर होता है, बल्कि विटामिन और मिनरल्‍स भी स्‍टोर होते हैं और प्रोटीन को मेटाबोलाइज भी करता है।



style="display:block"
data-ad-client="ca-pub-4669332297958929"
data-ad-slot="1981374933"
data-ad-format="auto"
data-full-width-responsive="true">

फैटी लिवर की समस्या होने पर लिवर भली प्रकार से काम करना बंद कर देता है। इसलिए ऐसे में यह बहुत जरूरी हो जाता है कि अपने लिवर का ध्यान रखा जाए। कहते हैं कि भारतीय मसालों में औषधीय गुण होते हैं जिनकी मदद से लिवर को आराम मिल सकता है। बताया जाता है कि इनका नियमित सेवन करने से फैटी लिवर कंट्रोल किया जा सकता है।

सौंफ है लाभकारी – सौंफ एक उपयोगी मसाला है जिसकी मदद से पाचन क्रिया मजबूत होने के साथ ही लिवर को भी मजबूत किया जा सकता है। कहते हैं कि सौंफ का रोजाना सेवन करने से लिवर स्ट्रॉंग हो सकता है। इसलिए लिवर के रोगियों को सौंफ का सेवन करना चाहिए। इसका सेवन करने के लिए एक चम्मच सौंफ को एक गिलास पानी में भिगोएं और लंच और डिनर के बाद इसे पीएं।

जीरा है फायदेमंद – बताया जाता है कि जीरा लिवर को डिटॉक्सिफाई करने में मदद करता है। जीरा का सेवन करने से एंजाइमों के प्रोडक्‍शन में मदद मिलती है जिससे फैटी लिवर की समस्या में आराम मिल सकता है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि लिक्विड तौर पर मसालों का सेवन करने से बहुत जल्द फैटी लिवर कंट्रोल हो सकता है। इसके लिए आप पानी में जीरा भिगोकर ड्रिंक बना सकते हैं। रोजाना खाली पेट इस ड्रिंक के सेवन से आपको जल्द आराम मिल सकता है।

हल्दी मानी जाती है रामबाण – हल्दी को बहुत गुणकारी माना जाता है। बताया जाता है कि हल्दी का सेवन करने से हेपेटाइटिस की संभावनाएं कम हो सकती है। ऐसे में यह जरूरी हो जाता है कि हल्दी का सेवन किया जाए। हल्दी का सेवन सिर्फ दाल-सब्जियों में ही नहीं बल्कि काढ़े के रूप में भी किया जाना चाहिए। इसे आप खाना खाने से दो घंटे पहले पी सकते हैं।

{ads}